Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot: Hello Readers आज के  इस Article में हम Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot के बारे में जानेंगे जिनसे हमारे संविधान का निर्माण किया गया है। भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत जिनसे हमारे भारत देश का संविधान के निर्माण में इस्तिमाल किया गया है।

Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot

Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot (भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत)

जब भारतीय संविधान का निर्माण किया जा रहा था तब संविधान के निर्माताओं ने कुछ विदेशी संविधान के अनुसार हमारे संविधान में कुछ चीजों को प्रस्तुत किया जिस कारण यह कहा जा सकता है हमारे भारतीय संविधान में कुछ विदेशी स्रोत हैं जिनसे मिलकर हमारा भारतीय संविधान बना है।

आज हम उन्ही Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot के बारे में जानेंगे जिससे हम हमारे संविधान के बारे में अधिक जानकारी हासिल कर सकें।

10 Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot

भारत के संविधान के निर्माण में विभिन्न देशों के संविधान की सहायता ली गयी है जो की इस प्रकार है-

01- संयुक्त राज्य अमेरिका

मौलिक अधिकार, न्यायिक पुनरावलोकन, संविधान की सर्वोच्चता, न्यायपालिका की स्वतंत्रता, निर्वाचित राष्ट्रपति और उस पर महाभियोग, संविधान की सर्वोच्ता एवं उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों को हटाने की विधि एवं वित्तीय आपात।

02- ब्रिटेन

संसदात्मक शासन-प्रणाली, एकल नागरिकता एवं विधि-निर्माण प्रक्रिया।

03- आयरलैंड

निति निर्देशक सिद्धान्त, राष्ट्रपति के निर्वाचक-मंडल की व्यवस्था, राष्ट्रपति द्वारा राजयसभा में साहित्य, कला, विज्ञान तथा समाज सेवा इत्यादि के क्षेत्र में ख्यातिप्राप्त व्यक्तियों का मनोनयन, आपातकालीन उपबंध।

04- आस्ट्रेलिया

प्रस्तावना की भाषा, समवर्ती सूचि का प्रावधान, केंद्र एवं राज्य के बीच सम्बन्ध तथा शक्तियों का विभाजन।

05- जर्मनी

आपातकाल के प्रवर्तन के दौरान राष्ट्रपति को मौलिक अधिकार सम्बन्धी शक्तियां।

06- कनाडा

संधात्मक विशेषताएं अवशिष्ट शक्तियाँ केंद्र के पास।

07- दक्षिण अफ्रीका

संविधान संशोधन की प्रक्रिया का प्रावधान।

08- रूस

मौलिक कर्तव्य का प्रावधान।

09- जापान

विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया।

10-फ़्रांस

गणतंत्रात्मक और प्रस्तावना में स्वतंत्रता, समता, बंधुता के आदर्श।

नोट: भारतीय संविधान के अनेक देशी और विदेशी स्रोत हैं, लेकिन भारतीय संविधान पर सबसे अधिक प्रभाव “भारतीय शासन अधिनियम- 1935 का है” भारतीय संविधान के 395 अनुच्छेदों में से लगभग 250 अनुच्छेद ऐसे हैं, जो 1935 ई. के अधिनियम से या तो शब्दशः ले लिए गए हैं या फिर उनमें बहुत थोड़ा परिवर्तन किया गया है।

Importans of Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot

Competitive Exams में भारतीय संविधान से सम्बंधित बहुत सारे प्रश्न हमेशा से ही पूछे जाते रहे हैं जिनमे Bhartiya Samvidhan Ke Videshi Srot से सम्बंधित कुछ प्रश्न भी होते हैं। इसलिए आप इन सभी Important Points को जरूर Read करें जिससे Exams में इन Points से सम्बंधित प्रश्न का उत्तर आप आसानी से दे सकते हैं।

Must Read:

Follow Us on Facebook for our Latest Updates and Also you can Share your Information on our Facebook Group.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here