15 Facts about Bhimrao Ambedkar The Father of the Indian Constitution

BR Ambedkar (Bhimrao Ambedkar)- Hello Friends आज के इस Article में हम Dr. Bhimrao Ambedkar से सम्बंधित 15 Facts को आपके साथ Share कर रहे हैं जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए क्योंकि Ambedkar साहब हमारे Indian Constitution के Father के रूप में जाने जाते हैं।

Bhimrao Ambedkar

Bhimrao Ambedkar The Father of the Indian Constitution

December 6 को पूरे India में महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन Dr.  Bhimrao Ambedkar की मृत्यु हुई थी। वह एक Economist, Politician, Social Reformer (समाज सुधारक) और हमारे संविधान (Indian Constitution) के निर्माण की वजह से जाने जाते हैं। इसके साथ ही Bhimrao Ambedkar ने ही समाज में दलित वर्ग के लोगों, महिलाओं और मजदूरों के हित में Campaigns किये थे। जैसा कि उनकी 61 वीं Death Anniversary आज है इसलिए आज हम Dr Bhimrao Ambedkar जी के बारे में 15 Facts को आपके साथ Share कर रहे हैं।

15 Facts about Bhimrao Ambedkar The Father of the Indian Constitution

  • Dr. Bhimrao Ambedkar का जन्म 14 April 1891 ई. में हुआ था और उनके पिता का नाम Ramji Maloji Sakpal था और उनकी माता का नाम Bhimabai Murbadkar Sakpal था।
  • Ambedkar साहब के पिता जी British Rule में Highest Rank के Subedar Major थे और उनकी माता एक ग्रहणी थीं।
  • BR Ambedkar का वास्तविक नाम Ambavadekar था। जो कि उनके Teacher ने उनका Surname Change करके Ambedkar रख दिया था।
  • जब वह 15 वर्ष (आयु) के थे तब उनका विवाह 9 वर्ष की Ramabai के साथ करा दिया गया था।
  • Ambedkar साहब ही पहले दलित थे जिन्होंने Matriculation की परीक्षा उत्तीर्ण की थी।
  • वह पहले भारतीय थे जिन्होंने अर्थशास्त्र में Dr की शिक्षा ग्रहण की थी।
  • दो वर्ष में ही उन्होंने Mumbai के Government Law College में Principal की उपाधि ग्रहण की थी।
  • जब हमारे संविधान का निर्माण हो रहा था तब Dr BR Ambedkar उसे जला देना चाहते थे क्योंकि उनका कहना था कि संविधान में अल्पसंख्यक के कल्याण को ध्यान में रख कर ही बनाना होगा।
  • उन्होंने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को खारिज करने से इंकार कर दिया क्योंकि उन्हें लगा कि यह भेदभावपूर्ण है और एकता और अखंडता के सिद्धांतों के खिलाफ है। अनुच्छेद जम्मू और कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा देता है।
  • सन 1947 में उन्हें पहले न्याय और कानून मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था लेकिन कुछ समय उपरांत ही उन्होंने अपना इस्तीफा भी दे दिया था क्योंकि उन्होंने महिला अधिकार पर बिल का निर्माण किया जिसे अस्वीकार कर दिया गया था।
  • मध्यप्रदेश और बिहार को विभाजित करने का प्रस्ताव 1912 में आंबेडकर साहब के द्वारा ही दिया गया था।
  • आंबेडकर साहब ने सन 1942 में नई दिल्ली में भारतीय श्रम सम्मलेन के 7वें सत्र में भारत में काम करने के समय को 14 घण्टे से घटाकर 8 घण्टे कर दिया था।
  • सन 1935-36 में, आंबेडकर ने “वीटिंग फॉर अ वीसा” नमक अपनी 20 पृष्ठ की आत्मकथा को लिखा था जिसे आज भी कोलंबिया विश्वविद्यालय द्वारा एक पाठ्यपुस्तक के रूप में पढ़ा जाता है।
  • उनकी मृत्यु के तीन दिन पहले थी उन्होंने द बुद्ध और उनके धम्मा को अपनी पाण्डुलिपि में पूरा किया था।
  • भीमराव सम्बेदकर साहब मधुमेह की बीमारी से ग्रसित थे। 6 December 1956 को दिल्ली में उनके निवास स्थान पर उनकी नींद में मृत्यु हो गयी थी।

यह थे हमारे Bhimrao Ambedkar The Father of the Indian Constitution के बारे में 15 Important Facts आपको यह Article अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने Social Media Accounts पर जरूर Share करें जिससे की यह जानकारी सभी लोगों तक पहुँच सकें Thank you in advance.

Must Read:

For our Latest Updates Follow us on Social Media Accounts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here